anant tv

बीजेपी ने निगम अध्यक्ष के चुनाव के लिए राज्यसभा सांसद पाटीदार को पर्यवेक्षक बनाया है। 8 अगस्त को अध्यक्ष चुना जाएगा

 
as

भोपाल नगर निगम अध्यक्ष के नाम का फैसला 6 अगस्त को होगा। पर्यवेक्षक राज्यसभा कविता पाटीदार अभी दिल्ली में हैं और शनिवार को भोपाल आएंगी। वे पार्षदों और वरिष्ठ नेताओं से रायशुमारी करेंगी और 3 नाम की पैनल पार्टी को देंगी। जिस पर सीएम शिवराज सिंह चौहान और बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा की आखिरी मुहर लगेगी। इधर, अध्यक्ष की कुर्सी के लिए दावेदारों की संख्या बढ़ गई है। संघ से भी कुछ नाम सामने आए हैं।

बीजेपी ने निगम अध्यक्ष के चुनाव के लिए राज्यसभा सांसद पाटीदार को पर्यवेक्षक बनाया है। 8 अगस्त को अध्यक्ष चुना जाएगा। इससे पहले नाम पर फैसला होने की बात कही जा रही है। गुरुवार को पर्यवेक्षक भोपाल आने वाली थीं, लेकिन उनके नहीं आने के कारण रायशुमारी के लिए होने वाली मीटिंग की डेट आगे बढ़ गई। अब यह मीटिंग शनिवार को होगी। पर्यवेक्षक पाटीदार ने बताया, वे 6 अगस्त को रायशुमारी करेंगी। बता दें कि महापौर के बाद सबसे महत्वपूर्ण मानी जाने वाली निगम अध्यक्ष की कुर्सी को लेकर कई सीनियर पार्षद मैदान में है। वे कुर्सी के लिए दौड़-भाग भी कर रहे हैं। सीनियटी के हिसाब से माने तो रविंद्र यती, सुरेंद्र बाडिका और किशन सूर्यवंशी आगे हैं।

वहीं, पार्षद राजेश हिंगोरानी का नाम भी सामने आया है। हिंगोरानी के लिए बैरागढ़ के बीजेपी नेता और समाज के लोग सीएम और प्रदेश अध्यक्ष से भी मिल चुके हैं। दावेदारी के पीछे तर्क है कि हिंगोरानी सिंधी समाज के एकमात्र पार्षद है। उन्हें मौका दिया जाना चाहिए।

संघ से भी कुछ नाम सामने आ रहे हैं। इनमें वार्ड-12 के पार्षद देवेंद्र भार्गव का नाम भी चर्चा में है। भार्गव लंबे समय तक संघ में रहे। वे 15 साल तक शिशु मंदिर के प्राचार्य भी रह चुके हैं। सामान्य कोटे से उनका नाम भी सामने आया है।

इन नेताओं से भी रायशुमारी करेंगी पर्यवेक्षक
पर्यवेक्षक पाटीदार पार्षदों के साथ बैठकर अध्यक्ष के नाम पर चर्चा करेगी। वहीं, प्रभारी मंत्री भूपेंद्र सिंह, चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग, सांसद साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर, पार्टी में प्रदेश पदाधिकारी भगवानदास सबनानी, जिलाध्यक्ष सुमित पचौरी, राहुल कोठारी, विधायक रामेश्वर शर्मा, कृष्णा गौर, पूर्व महापौर आलोक शर्मा समेत कई वरिष्ठ नेताओं से भी रायशुमारी की जाएगी। इसके बाद नामों की पैनल पर सीएम और प्रदेश अध्यक्ष फैसला लेंगे।

From around the web