anant tv

फूड कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया (FCI) में घोटाले की जांच कर रही CBI ने पंजाब, हरियाणा और दिल्ली के 50 सेंटर्स पर छापेमारी की।

 
sd

फूड कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया (FCI) में घोटाले की जांच कर रही CBI ने पंजाब, हरियाणा और दिल्ली के 50 सेंटर्स पर छापेमारी की। छापेमारी के दौरान अलग-अलग सेंटर्स पर केस से जुड़े कुछ डॉक्यूमेंट्स बरामद हुए, साथ ही 60 लाख रुपए भी मिले हैं, जिनका हिसाब सेंटर के इंचार्ज के पास नहीं मिला। 

इसके अलावा इस नेक्सस में राइस मिल मालिक और ग्रेन मर्चेंट (अनाज व्यापारी) का भी नाम सामने आए हैं। मामले में FCI से जुड़े 74 लोगों के खिलाफ केस दर्ज किया गया है। CBI ने यह कार्रवाई भ्रष्टाचार के आरोपी FCI के DGM राजीव कुमार मिश्रा की गिरफ्तारी के बाद की है। बता दें कि जांच एजेंसी ने पिछले मंगलवार को चंडीगढ़ से राजीव कुमार मिश्रा को रिश्वत लेते हुए रंगे हाथों गिरफ्तार किया था।मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, ये अधिकारी, राइस मिल मालिक और अनाज जमा करने वाली कंपनियां, घटिया क्वालिटी का अनाज और चावल खरीदकर FCI को ऊंचे दामों पर बेचते थे। ये पूरी धांधलेबाजी FCI अधिकारियों की मदद से चल रही थी। जांच एजेंसी उन अधिकारियों और अनाज मिल के मालिकों पर कई दिनों से नजर रख रही थी। 

तो वहीं, CBI के मुताबिक, CBI को FCI में भ्रष्टाचार को लेकर कई शिकायतें मिली थीं, जिसके बाद एजेंसी इस नेक्सस के खिलाफ ऑपरेशन शुरू किया। इनमें फूड की खरीद, वेयर हाउसिंग और डिस्ट्रीब्यूटर, चावल मिल मालिकों, अनाज व्यापारी भी शामिल थे। पिछले 6 महीने से एजेंसी इनके खिलाफ खुफिया जानकारी जुटा रही थी। इनपुट मिलने के बाद दिल्ली, पंजाब और हरियाणा के कई शहरों में CBI की टीम ने छापा मारा। टेक्निकल असिस्टेंट से लेकर एग्जीक्युटिव डायरेक्टर तक इस नेक्सस में शामिल थे। वहीं, FCI के DGM को 50 हजार रुपए रिश्वत लेते हुए पकड़ा गया था।

From around the web