anant tv

हजूर बाबा सावन सिंह जी महाराज का  164वां प्रकाश दिवस बड़ी धूमधाम से मनाया गया

 
ssf

हजूर बाबा सावन सिंह जी महाराज का 164वां प्रकाश दिवस 27 जुलाई, 2022 को कृपाल बाग, दिल्ली में बड़ी धूमधाम से मनाया गया। इस अवसर पर सैंकड़ों की संख्या में श्रद्धालु उपस्थित हुए। 
इस अवसर पर प्रसारित विडियो सत्संग में सावन कृपाल रूहानी मिशन के वर्तमान सत्गुरु संत राजिन्दर सिंह जी महाराज ने कहा कि, ”हजूर बाबा सावन सिंह जी महाराज मानव शरीर में स्वयं प्रभु का ही रूप थे और वे इस नश्वर संसार में पिता-परमेश्वर से बिछुड़ी हुई रूहों को वापिस प्रभु से जोड़ने के लिए आए थे। उन्होंने अपने जीवन में ‘सावन’ के नाम को सार्थक करते हुए लाखों लोगों पर दयामेहर की बरखा की और उन्हें प्रभु की ज्योति व श्रुति के साथ जोड़कर उनकी रूह को पिता-परमेश्वर से एकमेक कर दिया। वो हमें समझाया करते थे कि हम नम्रता, प्रेम और आदरभाव से अपनी ज़िंदगी गुज़ारें और एक ऐसी ज़िंदगी जियें जोकि प्यार और मोहब्बत की बुनियाद पर आधारित हो।”


“हजूर बाबा सावन सिंह जी महाराज के पास देश-विदेश से विभिन्न धर्मों, संस्कृतियों और जाति आदि के लोग आया करते थे। वो चाहते थे कि जिस मकसद से हम यहाँ इस धरती पर भेजे गए हैं, जोकि अपने आपको जानना और पिता-परमेश्वर को पाना है, वो पूरा हो। उनकी शिक्षाएं आज भी हमारे सामने हैं और आज भी विश्वभर में लाखों-करोड़ों लोग उनके बताए हुए रास्ते पर चल रहे हैं। हम उनको याद करें और उनके बताए हुए रास्ते को अपनी ज़िंदगी में ढालें, तभी सही मायने से हम उनके प्रकाश दिवस को मना सकेंगे।“ 
उपस्थित कई श्रद्धालुओं ने भी हजूर बाबा सावन सिंह जी महाराज के साथ बीते अपने रूहानी अनुभवों को व्यक्त किया। 


बाबा सावन सिंह जी महाराज का जन्म 27 जुलाई, 1858 में ग्राम महिमा सिंह वाला, जिला लुधियाना में हुआ। हजूर बाबा सावन सिंह जी महाराज ने अपने उपदेशों द्वारा समझाया कि प्रत्येक जीव पिता परमेश्वर का अंश होने के नाते उसे पा सकता है, जोकि हमारे मनुष्य जीवन का मुख्य उद्देश्य है। उन्होंने अपने जीवनकाल में ये भविष्यवाणी की थी कि आने वाले समय में रूहानियत पश्चिम के देशां में बड़ी तेजी से फैलेगी। 


उनके पश्चात परम संत कृपाल सिंह जी महाराज और दयाल पुरुष संत दर्शन सिंह जी महाराज ने देश-विदेश की यात्राएं करके उनके रूहानियत के इस कार्य को दुनिया के कोने-कोने में फैलाया और आज भी उसी रूहानी कार्य को सावन कृपाल रूहानी मिशन के वर्तमान सत्गुरु परम संत राजिन्दर सिंह जी महाराज विश्वभर में अनेक यात्राएं कर लाखों लोगों को ध्यान-अभ्यास की विधि सिखा रहे हैं, जिससे कि हम अपने मनुष्य जीवन का परम ध्येय जोकि अपने आपको जानना और पिता-परमेश्वर को पाना है, को इसी जीवन में पूरा कर सकें। 
सावन कृपाल रूहानी मिशन के अध्यक्ष संत राजिन्दर सिंह जी महाराज आज संपूर्ण विश्व में ध्यान-अभ्यास द्वारा प्रेम, एकता व शांति का संदेश प्रसारित कर रहे हैं, जिसके फलस्वरूप उन्हें विभिन्न देशों द्वारा अनेक शांति पुरस्कारों के साथ-साथ पाँच डॉक्टरेट की उपाधियों से भी सम्मानित किया जा चुका है। 


सावन कृपाल रूहानी मिशन के आज संपूर्ण विश्व में 3200 से अधिक केन्द्र स्थापित हैं तथा मिशन का साहित्य विश्व की 55 से अधिक भाषाओं में प्रकाशित हो चुका है। इसका मुख्यालय विजय नगर, दिल्ली में है तथा अंतर्राष्ट्रीय मुख्यालय नेपरविले, अमेरिका में स्थित है। 

From around the web