anant tv

एनआईए ने अब तक 100 से ज्यादा पीएफआई अधिकारियों और कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार किया 

 
ad
एनआईए की टीम पूरे देशभर में छापेमारी कर रही है। बताया जा रहा है कि केरल में करीब 50 जगहों पर एनआईए की छापेमारी चल रही है। इसके अलावा देश के बाकी राज्यों में भी रेड डाली गई है। ये पूरी कार्रवाई पीएफआई से जुड़े टेरर फंडिंग मामले को लेकर चल रही है। मंजेरी, मल्लपुरम जैसे इलाकों में ये छापेमारी जारी है। केरल में ये छापेमारी काफी बड़े पैमाने पर हो रही है।

खास बात ये है कि एनआईए के साथ इस छापेमारी में ईडी की एक टीम भी मौजूद है। बताया जा रहा है कि एनआईए ने अब तक 100 से ज्यादा पीएफआई अधिकारियों और कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार किया है।

बता दें कि इससे पहले बिहार और तेलंगाना में एनआईए ने छापेमारी की थी। ये छापेमारी भी इसी मामले को लेकर हुई। बताया जा रहा है कि इस छापेमारी का दायरा और बढ़ सकता है। केरल से लीड लेने के बाद पीएफआई के अन्य दफ्तरों पर भी एनआईए छापेमारी कर सकती है। फिलहाल ये कार्रवाई 10 राज्यों में चल रही है। जिसमें बड़े स्तर पर गिरफ्तारियां की जा रही हैं। पीएफआई के लोगों को केरल, कर्नाटक, राजस्थान, तमिलनाडु, आंध्र प्रदेश, तेलंगाना, दिल्ली, यूपी, एमपी और महाराष्ट्र से गिरफ्तार किया गया है।

इसके अलावा NIA ने तमिलनाडु में भी कोयंबटूर, कुड्डलोर, रामनाद, दिंडुगल, थेनी और थेनकाशी समेत कई जगहों पर PFI के पदाधिकारियों के आवास पर रेड की है। इसके अलावा राजधानी चेन्नई में PFI के प्रदेश मुख्यालय में भी तलाशी जारी है।

चेयरमैन पर भी शिकंजा
जांच एजेंसियों ने पीएफआई के प्रदेश और जिला स्तरीय नेताओं के घर पर रेड की है। साथ ही इस बार एजेंसियों ने मलप्पुरम जिले के मंजेरी में पार्टी के चेयरमैन सलाम परद भी शिकंजा कसा है। सलाम के खिलाफ कार्रवाई के विरोध में पार्टी कार्यकर्ताओं का विरोध प्रदर्शन जारी है। गुरुवार को बड़ी संख्या में जुटे कार्यकर्ताओं ने जमकर नारेबाजी की।

विरोधी आवाजों को दबा रही सरकार: PFI

एनआईए की रेड पर पीएफआई महासचिव अब्दुल सत्तार ने कहा कि फासीवादी शासन द्वारा विरोध की आवाजों को दबाने के लिए एजेंसियों का इस्तेमाल किया जा रहा है. उन्होंने कहा कि शासन द्वारा किये जा रहे अत्याचारों का ताजा उदाहरण आधी रात को देखने में मिला, जब केंद्रीय एजेंसियों एनआईए और ईडी ने लोकप्रिय नेताओं के घरों में छापेमारी करना है. राष्ट्रीय, राज्य और स्थानीय स्तर के नेताओं के घर छापेमारी की जा रही है. राज्य समिति कार्यालय पर भी छापेमारी की जा रही है. फासीवादी शासन द्वारा विरोध की आवाजों को शांत करने के लिए एजेंसियों का इस्तेमाल करने के कदमों का कड़ा विरोध करें.

18 सितंबर को 23 जगहों पर रेड

इससे पहले 18 सितंबर को एनआईए ने आंध्र प्रदेश और तेलंगाना में 23 जगहों पर रेड मारी थी. ये छापेमारी भी कराटे प्रशिक्षण केंद्र के नाम पर प्रतिबंधित संगठन पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (PFI) का ट्रेनिंग कैंप चलाए जाने के मामले में की गई थी. एनआईए ने निजामाबाद, कुरनूल, गुंटूर और नेल्लोर जिले में रेड की थी. सूत्रों की मानें तो एनआईए ने उन्हीं स्थानों पर रेड की, जहां से आतंकी गतिविधियों के संचालन की जानकारी मिली थी.

दंगों के लिए तैयार कर रहा था कराटे टीचर

NIA ने कराटे टीचर अब्दुल कादिर पर शिकंजा कस दिया है. सूत्रों के मुताबिक अब्दुल कादिर और PFI पर आरोप है कि कराटे सिखाने की आड़ में मुस्लिम युवकों को दंगे की साजिश के लिए तैयार कर रहे थे. सूत्रों बताते हैं कि गिरफ्तार हुए लोगों के पास से हथियार भी बरामद हुए हैं. इन हथियारों का इस्तेमाल  ट्रेनिंग में किया जा रहा था. पकड़े गए लोगों से अधिकारी कराटे की ट्रेनिंग और अवैधानिक गतिविधियों के संबंध में पूछताछ कर रहे थे.

रविवार को भी पड़े थे छापे
रविवार को भी NIA ने आंध्र प्रदेश के अलग-अलग जिलों में रेड की थी। उस दौरान PFI सदस्यों को पूछताछ के लिए ले जाया गया था। जांच एजेंसी ने हिंसा भड़काने और गैर कानूनी गतिविधियों से जुड़े मामलों में कार्रवाई की थी। उस दौरान NIA अधिकारियों की 23 टीमों में निजामाबाद, कुर्नूल, गुंटूर और नेल्लोर जिले में करीब 38 ठिकानों तलाशी ली थी।

From around the web