anant tv

भाजपा प्रदेश अध्यक्ष के नेतृत्व में पार्टी नेताओं ने सांसद अधीर रंजन के खिलाफ राज्यपाल को सौंपा ज्ञापन

अनोखे लाल द्विवेदी विशेष संवाददाता भोपाल मध्यप्रदेश |
 
adadsad

भोपाल। कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी ने राष्ट्रपति श्रीमती द्रौपदी मुर्मू जी के लिए अत्यंत अमर्यादित, आपत्तिजनक शब्दों का प्रयोग कर न सिर्फ महिलाओं की गरिमा और आत्म सम्मान को ठेस पहुंचायी है बल्कि भारत के सर्वोच्च संवैधानिक पद का भी अपमान किया है। कांग्रेस नेता अधीर रंजन द्वारा की गयी टिप्पणी कांग्रेस के मूल चरित्र और संपूर्ण जनजातीय समाज के प्रति कांग्रेस की सोच को उजागर करती है। इस कृत्य के लिए लोकसभा में कांग्रेस दल के नेता अधीर रंजन पर कठोर कार्यवाही होनी चाहिए और सदन की सदस्यता भी बर्खास्त करना चाहिए। देश की 130 करोड़ जनता अधीर रंजन चौधरी को उनके इस कृत्य का जवाब जरूर देगी। यह बात भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष व सांसद श्री विष्णुदत्त शर्मा ने गुरूवार को कुशाभाऊ कन्वेंसिंग सेंटर स्थित महात्मा गांधी जी की प्रतिमा के समक्ष धरने को संबोधित करते हुए कही। प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदत्त शर्मा ने संबोधन के पूर्व महात्मा गांधी जी के चित्र पर पुष्पांजलि अर्पित की। धरने के पश्चात प्रदेश अध्यक्ष के नेतृत्व में पार्टी के पदाधिकारी, जनप्रतिनिधि और कार्यकर्ता पैदल मार्च करते हुए राजभवन पहुंचे और कांग्रेस नेता अधीर रंजन की सदस्यता समाप्त किए जाने के लिए राज्यपाल को ज्ञापन सौंपा।


अनुसूचित जनजाति महिला का राष्ट्रपति बनना कांग्रेस को नहीं पच रहा
प्रदेश अध्यक्ष श्री शर्मा ने कहा कि आजादी के 75 वर्षों में से कांग्रेस ने 55 वर्षो तक देश में राज किया लेकिन कभी भी कांग्रेस ने अनुसूचित जाति और जनजाति वर्ग को देश के सर्वोच्च पदों पर नहीं पहुंचने दिया। डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम और श्री रामनाथ कोविन्द को देश का राष्ट्रपति बनाकर एनडीए ने अल्पसंख्यक और अनुसूचित जाति वर्ग को सर्वोच्च पद पर पहुंचाया। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने और एनडीए ने आजादी के अमृत महोत्सव के अवसर पर अनुसूचित जनजाति समाज की बहन श्रीमती द्रौपदी मुर्मू को राष्ट्रपति बनाकर भारत में इतिहास बनाया। लेकिन दुर्भाग्य है कि कांग्रेस इसको पचा नहीं पा रही है। श्रीमती सोनिया गांधी से देश का जनमानस पूछता है कि कांग्रेस के पेट में इतना दर्द क्यों है ? कांग्रेस नेता ने जिस प्रकार राष्ट्रपति के विरूद्ध अनर्गल टिप्पणी की है उससे पूरा देश आंदोलित है।


अधीर रंजन जैसे अपराधी को संसद में बैठने का हक नहीं
विष्णुदत्त शर्मा ने कहा कि श्रीमती द्रौपदी मुर्मू के राष्ट्रपति बनने से देश की 130 करोड जनता हर्षोल्लास के साथ उनका स्वागत और सम्मान कर रही है लेकिन कांग्रेस नेता संवैधानिक पद और जनजाति महिला का अपमान कर रहे है। उन्होंने कहा कि सर्वोच्च संवैधानिक पद के विरूद्ध अमर्यादित टिप्पणी करने वाले अधीर रंजन चौधरी को संसद में बैठने का हक नहीं है। मैं लोकसभा अध्यक्ष से अपील करता हूं कि वे अधीर रंजन की सदस्यता बर्खास्त करे। उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने देश के संवैधानिक पद और महिलाओं का जो अपमान किया है उसके लिए सोनिया गांधी को पूरे देश से माफी मांगना चाहिए।


पैदल मार्च करते हुए राजभवन पहुंचे नेता
प्रदेश अध्यक्ष श्री शर्मा के नेतृत्व में मिंटो हाल से पार्टी के नेता एवं जनप्रतिनिधि सहित कार्यकर्ता पैदल मार्च करते हुए राजभवन रवाना हुए। पार्टी नेताओं ने तिरंगा झण्डे के साथ नारे लिखे तख्ती हाथों में अधीर रंजन को बर्खास्त करो और राष्ट्रपति का अपमान नहीं सहेगा हिन्दुस्तान के नारे लगा रहे थे। राजभवन पहुचंकर प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदत्त शर्मा के नेतृत्व में पार्टी नेताओं ने कांग्रेस दल के नेता अधीर रंजन चौधरी की लोकसभा की सदस्यता बर्खास्त करने के लिए लोकसभा अध्यक्ष के नाम राज्यपाल को ज्ञापन सौंपा।


यह थे पैदल मार्च के दौरान उपस्थित
इस अवसर पर प्रदेश शासन के मंत्री विश्वास सारंग, पार्टी के प्रदेश उपाध्यक्ष कांतदेव सिंह, श्रीमती सीमा सिंह जादौन, पंकज जोशी, प्रदेश महामंत्री भगवानदास सबनानी, विधायक रामेश्वर शर्मा, महापौर श्रीमती मालती राय, प्रदेश मंत्री राहुल कोठारी, प्रदेश कार्यालय मंत्री डॉ. राघवेन्द्र शर्मा, प्रदेश मीडिया प्रभारी लोकेन्द्र पाराशर, जिला अध्यक्ष सुमित पचौरी, पूर्व विधायक ध्रुवनारायण सिंह, सुरेन्द्रनाथ सिंह, विकास विरानी, प्रदेश प्रवक्ता नेहा बग्गा, किशन सूर्यवंशी, जगदीश यादव, अश्विनी राय, भाषित दीक्षित, श्रीमती वंदना जाचक,अजय पाटीदार, मनोज राठौर, सुनील पाण्डे, अनिल अग्रवाल,अशोक सैनी, राहुल राजपूत, राजेन्द्र गुप्ता, महेन्द्र दवे, मंडल अध्यक्ष राजेन्द्र सिंह, संदीप कुलस्ते सहित जिला पदाधिकारी, पार्षदगण एवं कार्यकर्ता उपस्थित थे। मंच संचालन रविन्द्र यति ने किया।

From around the web