anant tv

जो भी कोचिंग सेंटर संचालक युवाओं को भड़का रहे है, उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

 
as
बिहार के बाद यूपी में कोचिंग सेंटरों पर पुलिस की नजर टेढ़ी हो गई है। यूपी के उत्तर प्रदेश के एडीजी लॉ एंड ऑर्डर प्रशांत कुमार (ADG Law And Order Prashant Kumar) ने बताया कि कोचिंग सेंटर संचालक की लिस्ट तैयार की गई है। उन्होंने कहा कि जो भी कोचिंग सेंटर संचालक युवाओं को भड़का रहे है, उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने कहा कि जहां से ज्यादा बच्चे सेना के लिए निकलते है। वहां—वहां जाकर पुलिस के अधिकारी जाकर उन्हें भर्ती के संबंध में बताया जा रहा है। उन्हें जानकारी दी जा रही है कि उनके पक्ष में ही यह भर्ती लाई गई है। उन्होंने बताया कि हिंसा भी शामिल होने वाले युवाओं के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जा रही है। साथ ही निजी और सरकारी संपत्ति को नुकसान पहुंचाने वालों से वसूली भी की जाएगी। उन्होंने बताया कि सेना भर्ती में हिस्सा लेने वाले बच्चों को योजना की अच्छाईयों के बारे में बताया जा रहा है। उन्होंने बताया कि भारत बंद को देखते हुए यूपी में सुरक्षा के व्यापक इंतजाम किए गए हैं। 141 पीएसी,इ 10 कंपनी पैरा मिलिट्री फोर्स पुलिस के साथ फील्ड में है। साथ ही पुलिस अफसरों को भी क्षेत्र में तैनात किए गए है। उन्होंने कहा कि आंदोलन में असामाजिक तत्व और पॉलिटिकल एलिमेंट के घुसपैठ होने की वजह से आगजनी और उपद्रव हुआ है। इनपर नजर रखी जा रही है। अभी तक 39 एफआईआर दर्ज हुई। इसके अलावा हिंसा के 475 आरोपियों को गिरफ्तार किया गया है। इनमें से 330 लोगों को गंभीर धाराओं में मामला दर्ज किया गया है। अग्निपथ योजना के फायदे युवाओं तक पहुंचाने के लिए सैनिक कल्याण बोर्ड और भूतपूर्व सैनिकों की भी सहायता ली जा रही है। बता दें कि, पटना के डीएम चंद्रशेखर सिंह ने बताया कि प्रदर्शन, आगजनी और तोड़फोड़ मामले में मसौढ़ी के दो कोचिंग सेंटरों (Coaching Center) का नाम सामने आ रहा है। उन्होंने बताया कि युवाओं को कोचिंग सेंटरों ने हिंसक प्रदर्शन करने के लिए उकसाया गया है। सेंटरों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर कड़ी कार्रवाई करने की बात भी उन्होंने कही है।

From around the web