anant tv

शिक्षकों को अब स्कूल पहुंचते ही अपनी उपस्थिति मोबाइल लोकेशन भेजकर दर्ज करानी होगी

 
sf

जमालपुर प्रखंड व नगर में संचालित सरकारी स्कूलों में तैनात शिक्षकों की मनमानी अब नहीं चलेगी. शिक्षकों को अब स्कूल पहुंचते ही अपनी उपस्थिति मोबाइल लोकेशन भेजकर दर्ज करानी होगी. प्रमंडलीय आयुक्त ने जमालपुर प्रखंड में लगातार बदतर होती जा रही शिक्षा व्यवस्था के बाद जिला शिक्षा पदाधिकारी को पत्र भेज यह आदेश लागू करने का निर्देश दिया है. आयुक्त के इस निर्देश के बाद से शिक्षा विभाग में तैनात भगोड़े शिक्षकों के बीच हड़कंप मच गया है.
देर से आना, जल्दी जाना शिक्षकों की आदतों में है शुमार विदित हो कि जमालपुर प्रखंड व नगर क्षेत्र में संचालित अधिकांश स्कूलों की हालत आज भी दयनीय बनी हुई है. जहां के शिक्षकों का विद्यालय देर से आना और जल्दी जाना उनकी आदतों में शुमार हो गया है. जिसमें प्राथमिक विद्यालय फरीदपुर तो आज भी एक मॉडल बना हुआ है. जहां निरीक्षण करते व स्पष्टीकरण देते प्रखंड शिक्षा पदाधिकारी थक गए, परंतु विद्यालय की व्यवस्था में आजतक भी सुधार नही हो पाया.

शिक्षा पदाधिकारी ग्रुप बनाकर लेंगे मोबाइल लोकेशन आयुक्त ने अपने निर्देश में साफ शब्दों में कहा है कि जिला शिक्षा पदाधिकारी एक व्हाट्सएप ग्रुप बनाएंगे, जिसमें जिला कार्यक्रम पदाधिकारी, प्रखंड शिक्षा पदाधिकारी सहित सभी शिक्षक शामिल रहेगें. ग्रुप में प्रतिदिन सुबह 10 30 बजे शिक्षक अपने मोबाइल का लोकेशन स्कूल पहुंच भेजेंगे. विभागीय अधिकारी भी इस लोकेशन की प्रतिदिन जांच कर अपनी रिपोर्ट विभाग को भेजेंगे. जिसके बाद ग्रुप में शामिल भगोड़े शिक्षकों की पहचान होगी और वैसे शिक्षकों के विरुद्ध विधि सम्मत कार्रवाई की जाएगी.
आयुक्त के निरीक्षण में खुली थी पोलगौरतलब हो कि बीते दिनों प्रमंडलीय आयुक्त ने सरकार के आदेश के आलोक में जमालपुर प्रखंड में संचालित सरकारी स्कूलों का निरीक्षण किया था. जिसमें इटहरी पंचायत के मध्य विद्यालय इटहरी और उच्च विद्यालय इटहरी में शिक्षकों के गायब रहने, बच्चों की उपस्थिति कम देख और मध्याह्न भोजन योजना में गुणवत्ता का अभाव देख शिक्षा विभाग के अधिकारियों की जमकर क्लास लगाई थी. और जिला शिक्षा पदाधिकारी को गिरती शिक्षा व्यवस्था का जिम्मेदार मानते हुए जमकर फटकार भी लगाई थी. जिसके बाद आयुक्त ने यह आदेश जारी किया कि शिक्षक अब प्रतिदिन अपनी अपनी मोबाइल लोकेशन स्कूल पहुंचने के साथ ही भेजेंगे, जिसकी मॉनिटरिंग विभाग के अधिकारी रहेंगे.

From around the web