anant tv

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष ने कहा, ‘इस यात्रा ने मुझे आप सब के हक में लड़ने के लिए एक नई ताकत दी है। 

 
sd

 कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा है कि वह ऐसा भारत बनाना चाहते हैं जहां गैस सिलेंडर की कीमत 500 रुपये से ज्यादा न हो। दरअसल, कांग्रेस की भारत जोड़ो यात्रा के बाद अब लोगों के पास राहुल गांधी का एक लेटर पहुंचने वाला है। राहुल ने कहा है कि कुछ ‘विभाजनकारी ताकतें’ देश की विविधता को देशवासियों के खिलाफ इस्तेमाल कर रही हैं, लेकिन ‘नफरत की राजनीति’ ज्यादा दिनों तक नहीं चलने वाली है। कांग्रेस अपने ‘हाथ से हाथ जोड़ो अभियान’ के तहत राहुल गांधी के संदेश के तौर पर इस पत्र को लोगों के बीच बांटेगी। कांग्रेस ‘भारत जोड़ो यात्रा’ के आगे के कार्यक्रम के रूप में यह अभियान 26 जनवरी से शुरू करने वाली है। यह दो महीने तक चलेगा। जनता के नाम संदेश वाले इस पत्र में राहुल गांधी ने दावा किया, ‘आज हमारी विविधता खतरे में है... एक धर्म को दूसरे धर्म से, एक जाति को दूसरी जाति से, एक भाषा को दूसरी भाषा से और एक राज्य को दूसरे राज्य से लड़ाया जा रहा है।’

राहुल गांधी ने कहा, ‘आज हर भारतीय ये महसूस कर रहा है कि आपसी नफरत और झगड़े हमारे देश के विकास में बाधक हैं। मुझे इस बात का पूरा विश्वास है कि हम सब समाज में बुराई पैदा करने वाले जाति, धर्म, क्षेत्र, और भाषा के मतभेदों से ऊपर उठेंगे। हमारी महानता 'विविधता में एकता’ की हमारी पहचान है। मेरा आप सभी को यही संदेश है।’ उन्होंने लोगों का आह्वान किया, ‘डरो मत! अपने दिल से डर को निकाल दो, नफरत अपने आप हमारे समाज से खत्म हो जाएगी।’

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष ने कहा, ‘इस यात्रा ने मुझे आप सब के हक में लड़ने के लिए एक नई ताकत दी है। ये यात्रा मेरे लिए एक तपस्या थी। इस यात्रा ने मुझे सिखाया है कि हक की लड़ाई में कमजोरों की ढाल बनना है, जिनकी आवाज दवाई जा रही है, उनकी आवाज उठाना है।’

पार्टी महासचिव जयराम रमेश ने ‘हाथ से हाथ जोड़ो अभियान’ के संदर्भ में पत्रकारों से कहा, ‘यह अभियान ‘भारत जोड़ो यात्रा’ का विस्तार है। इस अभियान के तहत हम यात्रा का संदेश राजनीतिक भाषा में बताएंगे। कांग्रेस कार्यकर्ता देश के हर परिवार को राहुल गांधी जी का एक खत और मोदी सरकार की विफलताओं का ‘आरोपपत्र’ भी जनता को सौंपेंगे।’ उन्होंने कहा, ‘हम देश के करीब ढाई लाख पंचायतों, करीब छह लाख गांवों और 10 लाख से अधिक मतदान केंद्रों तक पहुंचेंगे। हम हर घर तक संपर्क करने का प्रयास करेंगे।’

From around the web