anant tv

 पंजाब के अमृतसर में अब स्प्रिंग डेल स्कूल को इंस्टाग्राम पर बम से उड़ाने की धमकी वायरल हो गई

 
zds

 पंजाब के अमृतसर में अब स्प्रिंग डेल स्कूल को इंस्टाग्राम पर बम से उड़ाने की धमकी वायरल हो गई। यह उसी तरह का मैसेज था, जैसा बीते दिनों डीएवी पब्लिक स्कूल के स्टूडेंट्स की तरफ से जारी किया गया था। पुलिस ने तीन घंटे में ही मामले को सुलझा दिया और दो स्टूडेंट्स की पहचान की, जिन्होंने मैथ्स की परीक्षा से बचने के लिए इस अफवाह को फैलाया था। डीसीपी इन्वेस्टिगेशन मुखविंदर सिंह भुल्लर ने जानकारी दी कि दो आरोपियों के खिलाफ पुलिस ने कार्रवाई शुरू की है। इनमें से एक के नाम पर मोबाइल की सिम है, जिससे यह मैसेज को फैलाया गया। पुलिस ने अफवाह फैलाने और आईटी एक्ट के अंतर्गत कार्रवाई शुरू की है। मिली जानकारी के अनुसार इंस्टाग्राम पर स्प्रिंग डेल स्कूल को बम से उड़ाने का मैसेज वायरल हो गया। यह मैसेज वॉट्स एप चैट का स्क्रीन शॉट था, जिसमें उर्दू भी लिखी गई थी। 

 मैसेज में स्पष्ट लिखा था कि स्प्रिंग डेल स्कूल में 16 सितंबर 2022 को प्लांटेशन ड्राइव होगी। इसी दौरान बम से स्कूल के C4 ब्लॉक को उड़ाया जाएगा। बचना चाहते हो तो बच लो। मैसेज के बाद स्कूल भी हरकत में आया और इसकी सूचना पुलिस को दी। पुलिस के साइबर सैल ने भी एक्टिव होकर आरोपियों का पता तीन घंटे में लगा लिया। मैसेज के बारे में जब स्कूल प्रशासन को जानकारी मिली तो उन्होंने तुरंत इसकी जानकारी सीनियर पुलिस अधिकारियों को दी। स्प्रिंग डेल स्कूल की तरफ से एक बयान भी जारी किया गया। जिसमें बम का मैसेज सर्कुलेट होने की बात कही गई। लेकिन पेरेंट्स व टीचर्स को ना घबराने की भी बात कही गई। उनका कहना था कि सर्कुलेट किया गया मैसेज वैसा ही है, जैसा बीते दिनों डीएवी पब्लिक स्कूल के स्टूडेंट्स की तरफ से जारी किया गया था। स्कूल ने रुटीन की तरह ही स्कूल लगाने की भी बात कही।

डीसीपी मुखविंदर सिंह ने जानकारी दी कि स्कूल के ही दसवीं के दो स्टूडेंट्स का नाम आगे आ रहा है। नाबालिग होने के कारण उनके नाम व पहचान को उजागर नहीं कर रही। लेकिन पुलिस ने एक के पिता को गिरफ्तार किया है। जिनमें नाम पर सिम था और इसी सिम से मैसेज वायरल किया गया। दूसरे स्टूडेंट के पिता के रोल की जांच की जा रही है। उन्हीने आगे बताया कि 16 सितंबर को 10वीं कक्षा का गणित का पेपर है, जिससे बचने के लिए ही बच्चों ने यह कदम उठाया। बच्चों की कोशिश थी कि इस पेपर को कुछ समय के लिए स्थगित करवा दिया जाए। लेकिन इसके साथ ही पुलिस ने वार्निंग जारी की है कि अगर आगे भी ऐसा फिर हुआ तो सख्ती से कार्रवाई की जाएगी। वहीं वार्निंग भी दी कि स्टूडेंट्स स्कूल में पढ़ने आते हैं, अगर धमकी जैसे गलतियां करते हैं, तो कानूनी तौर पर ही कार्रवाई होगी। इतना ही नहीं, अगर पेरेंट्स अपने बच्चों को स्मार्ट फोन देते हैं तो उन पर निगरानी रखना भी उन्हीं की जिम्मेदारी होगी।

From around the web