anant tv

दुनिया में जंग से बढ़ रहे फूड क्राइसिस को रोकने के लिए फूड एक्सपोर्ट पर सहमति बनी।

 
as

फूड क्राइसिस से परेशान दुनिया के लिए रूस और यूक्रेन की जंग के बीच एक अच्छी खबर आई है। सोमवार को यूक्रेन के ओडेसा पोर्ट से 26 हजार टन मक्का लेकर एक बड़ा शिपमेंट रवाना हुआ। यह मंगलवार को तुर्की के इंस्ताबुल पोर्ट पहुंचेगा। वहां इसकी जांच होगी इसके बाद इसे अफ्रीका के लिए रवाना किया जाएगा।

रूस और यूक्रेन की जंग 24 फरवरी को शुरू हुई थी। तब से ही यूक्रेन ने फूड एक्सपोर्ट बंद कर दिया था, क्योंकि रूस उसके बंदरगाहों पर हमले कर रहा था। पिछले दिनों तुर्की के दखल के बाद रूस-यूक्रेन के बीच ग्रीन पैक्ट हुआ। इसके तहत दुनिया में जंग से बढ़ रहे फूड क्राइसिस को रोकने के लिए फूड एक्सपोर्ट पर सहमति बनी।

UN ने भी दिया दखल
UN और तुर्की ने मिलकर रूस और यूक्रेन के बीच यह ग्रीन पैक्ट कराया है। रूस और यूक्रेन दोनों ही अफ्रीका समेत दुनिया के कई देशों को फूड सप्लाई में अहम रोल अदा करते हैं। यही वजह है कि अफ्रीका के कई गरीब देशों में भुखमरी का खतरा पैदा हो गया था। रूस ब्लैक सी में यूक्रेन के पोर्ट्स को निशाना बना रहा था। इसकी वजह से यूक्रेन का अनाज वहां से एक्सपोर्ट नहीं हो पा रहा था।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, तुर्की में जांच के बाद यूक्रेन के इस शिपमेंट को लेबनान भेजा जाएगा। इसका कुछ हिस्सा अफ्रीका को भी मिलेगा। रूस ने समझौते में वादा किया है कि वो किसी फूड शिपमेंट पर हमला नहीं करेगा।

From around the web