anant tv

गुरु द्वारा अपने शिष्यों को शिक्षा व ज्ञान प्रदान की जाती है ​जिससे नई पीढ़ी उस ज्ञान को प्राप्त कर विद्वान और श्रेष्ठ बनती है

 
sad

सनातन धर्म में गुरु को ईश्वर के बराबर माना गया है क्योंकि गुरु ही अपने शिष्य को परमात्मा तक जाने का मार्ग दिखाता है हिंदू धर्म के कई ग्रंथों और पुराणों में गुरु शिष्य के संबंध के बारे में विस्तार से बताया गया है गुरु और शिष्य की परंपरा वैदिक काल से चली आ रही है

गुरु द्वारा अपने शिष्यों को शिक्षा व ज्ञान प्रदान की जाती है ​जिससे नई पीढ़ी उस ज्ञान को प्राप्त कर विद्वान और श्रेष्ठ बनती है फिर इसके बाद वे इसे औरो तक पहुंचाते है गुरु द्वारा अपने शिष्य को ज्ञान प्रदान करने के बदले में शिष्य गुरु को गुरुदक्षिणा देते है जिस पर आज हम अपने इस लेख द्वारा चर्चा कर रहे है। 

आध्यात्मिक और शास्त्र अनुसार गुरु वो होते है जो अपने शिष्य को अंधकार से प्रकाश यानी की ज्ञान की ओर ले जाते है यही कारण है कि हिंदू संस्कृति में गुरु को ईश्वर तुल्य कहा गया है गुरु का अर्थ वेद और गीता पुराणों में विस्तापूर्वक वर्णन किया गया है वही गुरु के ज्ञान की तरह ही सनातन धर्म में गुरु दक्षिणा का भी विशेष महत्व होता है वैदिक और पौराणिक मान्यताओं के अनुसार शिष्यों को गुरु द्वारा गुरुकुल में शिक्षा प्रदान की जाती थी

शिक्षा ग्रहण करने के बाद जब अंत में शिष्यों के घर वापसी का समय आता था तब गुरु अपने शिष्य से गुरु दक्षिणा मांगते थे यहां गुरु दक्षिणा अर्थ धन दौलत आदि नहीं है ​बल्कि गुरु अपनी इच्छा से अपने शिष्य से गुरु दक्षिणा के रूप में कुछ भी मांगते थे। वही अपने गुरु के आदेशों का पालन करना शिष्य का परम धर्म और कर्तव्य होता है ऐसे में गुरु द्वारा मांगी जाने वाली गुरु दक्षिणा शिष्य को प्रदान करनी ही पड़ती थी इसे ही शिष्य की असली परीक्षा माना जाता था। 

From around the web