anant tv

घर पर खुद साबुन बनाएंगे तो इसमें इस्तेमाल की जानी वाली सामग्री का पूरा कंट्रोल भी आपके हाथ में होगा 

 
as

 नीम को उसके कड़वेपन के कारण जाना जाता है। सभी लोगों को पता होगा कि कड़वा होने के बाद भी नीम स्वास्थ्य के लिए बहुत अधिक लाभदायक होता है। नीम का वानस्पतिक यानी लैटिन भाषा में नाम एजाडिरैक्टा इण्डिका (Azadirachta indica (L.) A. Juss.) तथा Syn- Melia indica (A. Juss.) Brantis है। यह कुल मीलिएसी (Meliaceae) का पौधा है। हजारों वर्षों से इसका उपयोग रोगों का उपचार करने में किया जा रहा है। ये पेड़ एंटीऑक्सिडेंट, एंटीसेप्टिक गुणों से भरपूर है। ये इम्यून सिस्टम को बूस्ट करने के साथ ही कई तरह की स्किन प्रॉब्लम्स को भी दूर करने में मदद करता है। नीम के गुणों की अगर लिस्ट बनाने बैठें, तो शायद शब्द भी कम पड़ने लगें।

बुन बनाने की सामग्री

नीम के कुछ पत्ते
पानी
ग्लिसरीन का साबुन
विटमिन-ई कैप्सुल
पेपर कप या छोटी कटोरी या सांचा

बनाने की विधि

- नीम की पत्तियों को अच्छी तरह से पानी से धो लें।
- इन्हें मिक्सर में डालें और दो टेबलस्पून पानी एड करें।
- पत्तियों को ब्लेंड करें और तैयार पेस्ट को एक कटोरी में निकाल लें।
- अब एक ग्लिसरीन साबुन लें और उसे कई छोटे टुकड़ों में काट लें।
- एक कढ़ाई या गहरे पैन में पानी उबलने को रख दें।
- पानी जब गर्म हो जाए, तो उसमें खाली कटोरा डाल दें।
- कटोरा जब गर्म हो जाए, तो उसमें ग्लिसरीन साबुन के टुकड़े डाल दें और उन्हें पिघलने दें।
- पिघले हुए साबुन में नीम की पत्तियों का पेस्ट मिलाएं।
- इसे कुछ देर डबल बॉइलर सेटिंग में ही गर्म होने दें।
- विटमिन-ई कैप्सुल काटें और उसके लिक्विड को मिक्स में मिला दें।
- इस सामग्री को कटोरी या सांचे में डाल लें और ठंडा होने दें।
- चाकू की मदद से इसे निकालें और बस ये साबुन इस्तेमाल के लिए तैयार है।

From around the web