कोरोना संकट के दौर में मदद के लिए आगे आईं विभिन्न क्षेत्रों

कोरोना संकट के दौर में मदद के लिए आगे आईं विभिन्न क्षेत्रों में काम कर रही बड़ी कंपनियां

 
कोरोना संकट के दौर में मदद के लिए आगे आईं विभिन्न क्षेत्रों में काम कर रही बड़ी कंपनियां

नई दिल्ली । भारत में कोरोना संकट बढ़ता ही जा रहा है। इस दौर में विभिन्न क्षेत्रों में काम करने वाली बड़ी कंपनियां अपनी अपनी तरह से कोरोना के विरुद्ध चलाए जा रहे अभियान में अपना सहयोग कर रही हैं। देश में कारोबार करने वाली बड़ी कंपनियां अब आइसोलेशन और केयर सेंटर के साथ वैक्सीनेशन कैंप भी आयोजित कर रही हैं।

देश में कोरोनावायरस के सेकंड वेव की वजह से स्थितियां बिगड़ गई हैं। बड़ी कंपनियां अपने स्टाफ के साथ देश के आम लोगों की मदद करने के लिए आगे आ रही हैं। भारत में कोरोना संकट से सबसे अधिक प्रभावित महाराष्ट्र, पश्चिम बंगाल और उत्तर प्रदेश में पेप्सिको ने 5 कोविड-19 केयर सेंटर की शुरुआत की है। पेप्सिको के कोविड-19 केयर सेंटर में बेड और ऑक्सीजन सिलेंडर भी लगाए गए हैं। कोल्ड ड्रिंक बनाने वाली कंपनी केंद्र सरकार को 100 से अधिक ऑक्सीजन कंसंट्रेटर भी भेजने जा रही है। इसके साथ ही इन राज्यों में पेप्सिको ने वैक्सीनेशन ड्राइव भी शुरू किया है।

ई-कॉमर्स कारोबार करने वाली दिग्गज कंपनी फ्लिपकार्ट ने कहा है कि उसने एक ऑक्सीजन प्लांट लगाया है। देश में कोरोनावायरस के सेकंड वेव में ऑक्सीजन की भारी किल्लत हो गई है। अस्पतालों और आम लोगों को ऑक्सीजन की आपूर्ति करने के लिए यह प्लांट लगाया गया है। फ्लिपकार्ट की पैरंट कंपनी वॉलमार्ट  ने कहा है कि उसने 20 ऑक्सीजन जनरेटिंग प्लांट और 20 क्रायोजेनिक कंटेनर देने का फैसला किया है। वॉलमार्ट फाउंडेशन ने 20 लाख डालर की मदद करने का फैसला किया है। यह मदद देश में कोरोना संकट में काम कर रही नॉट फॉर प्रॉफिट संस्थाओं को दिया जाएगा। वॉलमार्ट ने कहा है कि वह 3000 ऑक्सीजन कंसंट्रेटर और 500 ऑक्सीजन सिलेंडर भी देगा। इससे ऑक्सीजन के संकट से जूझ रहे मरीजों को आसानी होगी।

     

 

From around the web