बुजुर्गों का रेल किराया रियायत पुनः बहाल कराने के लिए आंदोलन करेगा सीनियर सिटीजन एसोसिएशन

 
बुजुर्गों का रेल किराया रियायत पुनः बहाल कराने के लिए आंदोलन करेगा सीनियर सिटीजन एसोसिएशन

बुजुर्गों का रेल किराया रियायत पुनः बहाल कराने के लिए आंदोलन करेगा सीनियर सिटीजन एसोसिएशन

राष्ट्रीय कार्य समिति की बैठक में हुआ निर्णय


अनोखेलाल द्विवेदी
नई दिल्ली। नेशनल सीनियर सिटीजन एसोसिएशन के राष्ट्रीय कार्यवाहक अध्यक्ष राजकुमार शर्मा ने कहा है की कोरोना वायरस के कारण अस्थाई तौर पर निलम्बित की गई वरिष्ठ नागरिकों का रेल किराया रियायत (छुट) को तत्काल पुनः बहाल नही किया गया तो शिघ्र ही संघ द्वारा आंदोलन किया जाएगा।श्री शर्मा शुक्रवार को उत्तमनगर स्थित संघ के केंद्रीय कार्यालय में आयोजित राष्ट्रीय कार्यसमिति की बैठक की अध्यक्षता कर रहे थे।उन्होंने कहा की कोरोना के कारण देश की परिस्थितियां बदल गई है।इससे वरिष्ठ नागरिकों की स्वास्थ्य सम्बन्धी तथा अन्य परेशानियां बढ़ गई है।सरकार के द्वारा उन्हें पर्याप्त सहायता नही मिल पा रही है।कोरोना के कारण अस्थाई रूप से बंद की गई वरिष्ठ नागरिकों का रेल किराया रियायत अबतक रेलवे ने चलाई जा रही रेलगाड़ियों में पुनः बहाल नही किया है जिसका वे हकदार है। ऐसे में हम बुजुर्ग हितों की रक्षा के लिए संघर्ष करते रहेंगे।बैठक का संचालन राष्ट्रीय महासचिव रामायण पांडेय एलोन ने किया जिसमें राष्ट्रीय कार्यसमिति के पदाधिकारियों के अतिरिक्त कई राज्य इकाइयों के संयोजकों,महासचिवों तथा विशेष आमंत्रित प्रतिनिधियों ने भाग लिया।कोरोना के कारण कई बुजुर्ग संघीय पदाधिकारियों के प्रतिनिधी बैठक में शामिल हुए।दिल्ली सरकार के सभी कोरोना प्रोटोकाल नियमों के तहत संघ के प्रधान संरक्षक महर्षि अंजनेश जी महाराज ने बैठक का उदघाटन कर आशीर्वाद प्रदान किया।कोरोना के कारण बदले हालात में वरिष्ठ नागरिकों की दशा-दिशा,हाई लेवल रेलवे रिस्ट्रक्चरिंग कमिटी तथा नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक (कैग) द्वारा वरिष्ठ नागरिकों को रेल किराये में मिल रहे रियायत को समाप्त करने की सिफारिश को पूर्ण रूप से रद्द कराने,पेंशनरों की रोकी गई महंगाई भत्ता बृद्धि को चालु कराने, सीनियर सिटीजन एक्ट को गम्भीरता से लागू कराने, वरिष्ठ नागरिक आयोग का गठन कराने सहित वरिष्ठ नागरिकों के कल्यार्थ अन्य विषयों पर विचार-विमर्श किया गया। राष्ट्रीय महासचिव आर.पी. एलौन ने कहा की सरकार कोरोना के बहाने बुजुर्गों के हक मारने की साजिश कर रही है।एक-एक कर उनकी सुविधायों को खत्म किया जा रहा है।जबकी सांसदों,विधायकों की सुविधायों में कोई कटौती नही हो रही है।हम इसके खिलाफ संघर्ष को जारी रखेंगे।उन्होंने कहा की रेल किराया में पुरुष वरिष्ठ नागरिकों को 40% तथा महिला यात्रियों को 50% पहले की तरह रियायत पुनः बहाल कराने के लिए संघ का सभी आवश्यक प्रयास जारी है।श्री एलौंन ने कहा की बुजुर्गों के कई कल्याणकारी योजनाओं के आवेदन लम्बित है जिससे उनको लाभ नही मिल पा रहा है।कई बुजुर्गों को उनके परिजनों द्वारा भी सताया जा रहा है।आधुनिकता के दौर में युवापीढ़ी अपने कर्तव्यों से विमुख हो रही है उन्हें मार्ग पर लाने के लिए सभी आवश्यक प्रयास संघ द्वारा किया जा रहा है।बैठक में शिवप्रसाद सिह,देवी बसन्ती त्रिपाठी,कुशुम देवी,प्रो.शितला प्रसाद तिवारी,प्रकाश प्राण,विजेंद्र शर्मा,सतेंद्र कुमार (प्रतिनिधि रामनरेश शर्मा),सिधेश्वर शर्मा,कमलनारायण शर्मा, (सभी बिहार),आशालता सोरेन,योगेंद्र मिश्रा (पश्चिम बंगाल),विजयपाल सिह,कामेश्वर शर्मा (उत्तराखण्ड),भरत चन्द्रा (महाराष्ट्रा),एन श्रीनिवासन,नटराजन के.(कर्नाटका),इंदुभूषण तिवारी,राजेन्द्र शर्मा,मनोज कुमार (प्रतिनिधि माया पांडेय एवं डॉ.नीलिमा सिह,उत्तरप्रदेश) एनसी साहू (झारखण्ड),निरंजन दास (हिमांचल प्रदेश),एन के शर्मा (राजस्थान),सुदामा भारती (मध्य प्रदेश),एस.एस.भाटिया (तमिलनाडु),के.वेंकटेशिवप्पा (आंध्रप्रदेश),अमरेश साहू (उड़ीसा),ललित कुमार मानिकपुरी (छत्तीसगढ़),कुलदीप सिंह (पंजाब),परवीन कुमार(हरियाणा),कुमारनाथ झा,सतेंद्र कुमार,डॉ.रामनिवास इंडिया,रघुवीर मणि, ओमप्रकाश भरद्वाज,डॉ.अशवनी गौतम,महेंद्र शर्मा सहित अन्य लोगों ने अपने सुझाव रखे।

From around the web