मप्र के 56 बीएड कॉलेजों ने अब तक नहीं दी जानकारी

मप्र के 56 बीएड कॉलेजों ने अब तक नहीं दी जानकारी

 
मप्र के 56 बीएड कॉलेजों ने अब तक नहीं दी जानकारी

अनोखे लाल द्विवेदी  विशेष संवाददाता भोपाल |  

  प्रदेश के 647 कॉलेजों में से 591 ने ही आगामी शैक्षणिक सत्र (2021-22) में दाखिला हेतु अपनी जानकारी ऑनलाइन भेजी है।अभी तक 591 कॉलेज प्रवेश देने के लिए आगे आए हैं। प्रदेश के शेष 56 कॉलेजों ने जानकारी नहीं दी है। उच्च शिक्षा विभाग ने बीएड कालेजों में प्रवेश कराने की व्यवस्था को शुरू कर दिया है। सूबे में बीएड के करीब 647 कालेजों ने एनसीटीई से मान्यता ले रखी है। अभी तक आगामी सत्र 2021-22 में प्रवेश कराने के लिए विभाग तक 591 कालेज ही पहुंच सके हैं। करीब 56 कालेज काउंसलिंग में भागीदारी नहीं करेंगे। इससे उनकी सीटें सूनी होने पर जीरो प्रवेश रहेगा। गौरतलब है कि इस वक्‍त कोरोना संक्रमण तेजी से प्रदेश पर हावी हो रहा है। इसलिए विभाग ने अपनी सभी व्यवस्थाओं को ऑनलाइन करने का निर्णय लिया है। इसके चलते विभाग ने प्रदेश के सभी बीएड कॉलेजों में प्रवेश कराने संबंधित सभी गतिविधियों को ऑनलाइन कर दिया है। विभाग ने कॉलेजों को आगामी सत्र 2021-22 में प्रवेश कराने हेतु ऑनलाइन प्रक्रिया अपनाते हुए उनसे आठ मई तक सभी जानकारी पोर्टल के माध्यम से भेजने के निर्देश दिए थे। इसमें अब तक प्रदेश 591 कालेजों ने ही भागीदारी की है। अभी भी 56 कॉलेजों ने अपनी तरफ से आगामी सत्र में प्रवेश देने के लिए कोई संकेत नहीं दिए हैं, इसलिए विभाग ने उन्हें आठ मई तक अपने लॉगिन पासवर्ड से दस्तावेज जमा करने का एक मौका और दिया है। इसके बाद विभाग आगामी सत्र में कॉलेजों को शामिल करने की प्रक्रिया को पूर्ण करेगा। कालेजों द्वारा पोर्टल पर दी गई जानकारी को विवि पहले संबद्धता देते हुए ओके करेगा। इसके बाद विभाग कॉलेजों के एनसीटीई से कोर्स की मान्यता और प्रवेश एवं फीस विनियामक समिति द्वारा फीस निर्धारित कराने के पत्र का परीक्षण करेगा। इसके बाद उन्हें काउंसिलिंग में शामिल किया जाएगा। बता दें ‎कि अभी तक विभाग कॉलेजों के समस्त प्रकार के दस्तावेजों को देखने के लिए भौतिक तौर पर दस्तावेजों का परीक्षण कमेटी द्वारा कराता था, लेकिन कोरोना संक्रमण को देखते हुए विभाग ने ऑनलाइन प्रक्रिया को अपनाया है।

From around the web