राजधानी की 60 फीसद आबादी पानी को तरसी

राजधानी की 60 फीसद आबादी पानी को तरसी

 
राजधानी की 60 फीसद आबादी पानी को तरसी

अनोखे लाल द्विवेदी  विशेष संवाददाता भोपाल | 

कोलार की ग्रेविटी मुख्य पाइप लाइन फूटने से शहर की लगभग 60 फीसद आबादी पानी को दो दिन से पानी नहीं ‎मिल  पाया। लगातार दूसरे दिन 12 लाख से अधिक आबादी को पानी नहीं मिल पाया। इस कारण वे मंगलवार को भी पानी के लिए इधर-उधर भटकते रहे। निगम ने विभिन्न क्षेत्रों में पानी के टैंकर भिजवाए जरूर, लेकिन वे भी राहत नहीं दे सके। लाइन सुधरने के बाद निगम अफसरों का दावा है कि आज से नियमित जलप्रदाय होगा।  मालूम हो कि रातापानी के जंगल में रविवार रात एक बजे फूटी कोलार ग्रेविटी मुख्य पाइप लाइन करीब 41 घंटों के बाद मंगलवार शाम छह बजे सुधर पाई।  कोलार जलप्रदाय परियोजना की 1500 एमएम व्यास की पुरानी ग्रेविटी मेन पाइपलाइन फूटी थी। इस कारण सोमवार को लाइन से जुड़े क्षेत्रों में जलप्रदाय नहीं हो सका। चूंकि, इस दिन लाइन सुधारी नहीं जा सकी। इसलिए मंगलवार को भी लोगों को पानी की समस्या से दो-चार होना पड़ा। लगातार दो दिन तक जलप्रदाय नहीं होने के कारण शहर का एक बड़ा हिस्सा पानी को तरस गया। जोन क्रमांक-छह, सात एवं नौ में एक घर में भी पानी नहीं पहुंचा। इसके अलावा चार इमली, कोलार, शाहपुरा, तुलसी नगर, न्यू मार्केट, एमपी नगर, बिट्टन मार्केट, 10 नंबर मार्केट, अरेरा कॉलोनी, हबीबगंज, गुलमोहर, रेलवे कॉलोनी, जवाहर चौक, नेहरू नगर, टीटी नगर, कोटरा सुल्तानाबाद, बुधवारा, निशातपुरा, नादरा बस स्टैंड, 1100 क्वॉटर्स, पंचशील नगर, तुलसीनगर, जेपी अस्पताल आदि क्षेत्रों में जलप्रदाय नहीं हो सका। हालांकि, अफसरों का दावा है कि टैंकरों के जरिए लोगों को जलापूर्ति की गई। प्रभारी अधीक्षण यंत्री एआर पंवार ने बताया कि निगम के नलकूपों व अन्य स्रोतों से टैंकरों से पानी पहुंचाया गया। दूसरी ओर हकीकत यह रही कि अधिकांश क्षेत्रों में टैंकर पहुंचे ही नहीं। तुलसी नगर के विजय सिंह ने बताया कि जलप्रदाय नहीं होने से परेशानी उठानी पड़ी। निगम के टैंकर उनके क्षेत्र में नहीं आए। उक्त लाइन करीब 30 साल पहले बिछाई गई थी, जो कमजोर हो गई है। इस कारण कई बार फूट जाती है और लोगों के लिए परेशानी खड़ी करती है। इस बारे में नगर ‎निगम आयुक्त केवीएस चौधरी कोलसानी का कहना है ‎कि कोलार पाइप लाइन सुधार ली गई है। आज से जलप्रदाय व्यवस्था सुचारू हो जाएगी।

From around the web