anant tv
anant tv

कर्तव्य की पंक्ति में अपने प्राणों की आहुति देने वाले सुरक्षा बलों की बहादुरी और बलिदान के लिए राष्ट्र हमेशा आभारी रहेगा

 
ok

मुंबई में हुए भयानक हमले को 26 नवंबर, 2021 यानी आज पूरे 13 साल हो गए। आज ही का दिन था। जब पाकिस्तान में मौजूद जिहादी संगठन लश्कर-ए-तैयबा के 10 लोगों ने मुंबई के ताज होटल पर हमला कर दिया था और 4 दिनों में 12 हमलों को अंजाम दिया था। ताजमहल पैलेस होटल, नरीमन हाउस, मेट्रो सिनेमा और छत्रपति शिवाजी टर्मिनस सहित अन्य स्थानों पर हुए हमलों में 15 देशों के 166 लोग मारे गए थे। साल 2008 के नवंबर में हुए मुंबई हमले को 26/11 के नाम से भी जाना जाता है।

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने शुक्रवार को मुंबई 26/11 आतंकवादी हमले में अपनी जान गंवाने वालों को श्रद्धांजलि देते हुए कहा, "एक आभारी राष्ट्र हमेशा आपके बलिदान का ऋणी रहेगा"।26 नवंबर, 2008 को आतंकवादी हमले को एक "कायरतापूर्ण" कृत्य करार देते हुए, शाह ने अपने ट्विटर अकाउंट के माध्यम से "मुंबई 26/11 के आतंकवादी हमलों में अपनी जान गंवाने वालों को भावभीनी श्रद्धांजलि" दी और "सभी के साहस को सलाम किया" सुरक्षाकर्मी जिन्होंने कायरतापूर्ण हमलों में आतंकवादियों का बहादुरी से सामना किया।"गृह मंत्री ने ट्वीट किया, "पूरे देश को आपकी बहादुरी पर गर्व होगा। एक आभारी राष्ट्र आपके बलिदान का हमेशा ऋणी रहेगा।"

रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने tweet करके लिखा-मुंबई पर 26 नवंबर को हुए आतंकी हमले की 13वीं बरसी पर हम उन मासूमों की जान को याद करते हैं, जिन्हें हमने खो दिया। उन हमलों में जान गंवाने वाले सभी लोगों को मेरी श्रद्धांजलि। हमारे सुरक्षा बलों ने 26/11 के हमलों के दौरान अनुकरणीय साहस का परिचय दिया। मैं उनकी बहादुरी और बलिदान को सलाम करता हूं।

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने (Ram Nath Kovind) ने tweet किया-शहीदों को मेरी भावभीनी श्रद्धांजलि और 26/11 #MumbaiTerrorAttacks के पीड़ितों को श्रद्धांजलि। कर्तव्य की पंक्ति में अपने प्राणों की आहुति देने वाले सुरक्षा बलों की बहादुरी और बलिदान के लिए राष्ट्र हमेशा आभारी रहेगा।

एक तरह से करीब साठ घंटे तक मुंबई बंधक बन चुकी थी।मुंबई हमले को याद करके आज भी लोगों को दिल दहल उठता है।जानिए क्या हुआ था उस दिन। मुंबई हमलों की छानबीन से जो कुछ सामने आया है, वह बताता है कि 10 हमलावर कराची से नाव के रास्ते मुंबई में घुसे थे। इस नाव पर चार भारतीय सवार थे, जिन्हें किनारे तक पहुंचते-पहुंचते ख़त्म कर दिया गया। रात के तकरीबन आठ बजे थे, जब ये हमलावर कोलाबा के पास कफ़ परेड के मछली बाजार पर उतरे।वहां से वे चार ग्रुपों में बंट गए और टैक्सी लेकर अपनी मंजिलों का रूख किया।बताया जाता है कि इन लोगों की आपाधापी को देखकर कुछ मछुआरों को शक भी हुआ और उन्होंने पुलिस को जानकारी भी दी।

From around the web